पर्व और त्योहार

पिछले 150 वर्षों से यहां नहीं मनाई जाती होली, जानें इसके पीछे की वजह

Wednesday, February 28, 2018 13:10 PM

देशभर में प्रत्येक वर्ष फाल्गुन के महीने में होली का पर्व बड़ी ही से धूम-धान से मनाया जाता है और इस वर्ष भी यह त्यौहार 2 फरवरी को मनाया जाएगा। जैसे कि हम सब जानते हैं कि होली के दिन हर जगह मस्ती का माहौल देखने को मिलता है। लेकिन आज हम आपको एक एेसी जगह के बारे में बताने जा रहे हैं, जहां पिछले 150 वर्षों से कभी होली का पर्व नहीं मनाया गया। आईए जानें इसके बारे- 

 
छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले से 35 किलोमीटर की दूरी पर खरहरी नाम का एक गांव है। कहा जाता है कि इस गांव में पिछले 150 सालों से होली का पर्व नहीं मनाया गया। गांव के बुजुर्ग बताते हैं कि उनके जन्म से काफी समय पूर्व से गांव में होली मनाने का रिवाज नहीं है। इस गांव की आबादी लगभग 4000 के करीब है।
 
यहां की मान्यता के अनुसार यहां 150 वर्ष से पहले भीषण आग लगी थी। जिसके कारण गांव के हालात बेकाबू हो गए थे और पूरे गांव में महामारी फैल गई थी। इस सबके कारण यहां के निवासियों को भारी नुकसान हुआ था और हर तरफ अफरा-दफरी फैल गई थी। 
 
लोक मान्यता के अनुसार यहां के एक निवासी हकीम को स्वप्न में एक देवी ने दर्शन देकर इस त्रासदी से बचने का उपाय बताया। उन्होंने कहा कि गांव में होली का पर्व कभी न मनाया जाए तो यहां शांति वापस आ सकती है। यही कारण है कि इस गांव में तब से कभी होली का पर्व नहीं मनाया जाता है। यदि गांव का कोई बच्चा या युवा इस पर्व को मनाने की कोशिश करता है या कहीं और जाकर पर्व को मनाने की जिद करता है तो गांव के बुजुर्ग उसका बहिष्कार कर देते हैं।